Abraham Lincoln Biography in Hindi | अब्राहम लिंकन की जीवनी

Abraham Lincoln Biography in Hindi | अब्राहम लिंकन की जीवनीअब्राहम लिंकन (Abraham Lincoln) का जन्म 12 फरवरी 1809 को केंटुकी के हार्डिन काउंटी के लकड़ी के घर में हुआ | अब्राहम लिंकन (Abraham Lincoln) एक साधारण परिवार से थे व औपचारिक शिक्षा नाममात्र की ही थी किन्तु इसके बावजूद वे अमेरिका के 16वे राष्ट्रपति बने और अमेरिकी इतिहास क महान व्यक्ति कहलाये | 1839 में स्प्रिंगफील्ड में उनकी भेंट मैरी टॉड से हुयी | तीन वर्षो में उन्होंने विवाह कर लिया और आने वाले ग्यारह वर्षो में उनकी चार संताने हुयी |

1846 में लिंकन (Abraham Lincoln) ने US हाउस प्रतिनिधियों के लिए खड़े हुए और जीत गये | वाशिंगटन में वे मेक्सिकन युद्ध एवं गुलामी के विरोध के लिए जाने जाते थे | वे अपने सत्र के बाद घर लौटकर कानून का अभ्यास करने लगे | 1856 में उनके पिता की मृत्यु हो गयी | 6 नवम्बर 1860 को वे राष्ट्रपति निर्वाचित हुए और राष्ट्र संकट (1861-1865 के गृह युद्ध ) के दौरान कुशल नेतृत्व किया | उन्होंने अमेरिका को एक करने एवं उसे गुलामी से मुक्ति दिलाने में अहम भूमिका निभाई |

लिंकन(Abraham Lincoln) एक निपुण , चतुर एवं हास्यप्रिय नेता थे | 4 मार्च 1865 को जब युद्ध समाप्ति की ओर था तो उन्होंने राष्ट्रपति पद की दुसरी बार शपथ ली | उन्होंने अपने भाषण में कहा कि पराजित विद्रोही राज्यों के साथ सहानुभूति दिखाई जाए | उन्होंने युद्ध की मार झेल चुके राष्ट्र के नवनिर्माण में जी जान लगा दिया | 14 अप्रैल 1865 को लिंकन वाशिंगटन डीसी के फोर्ड थिएटर में एक नाटक देख रहे थे वही उनकी हत्या कर दी गयी | वो पहले अमेरिकी राष्ट्रपति थे जिनकी हत्या की गयी | उनकी अंतिम शवयात्रा में हजारो प्रशंशक सर झुकाए चल रहे थे |

अमेरिका में दास प्रथा को समाप्त करने एवं उसे एक नया रूप दें के लिए अब्राहम लिंकन (Abraham Lincoln) को आज भी स्मरण किया जाता है | उन्हें उनके चरित्र , भाषणों एवं पत्रों के लिए भी याद किया जाता है जो कि पुरी दुनिया के लिए प्रेरणा स्त्रोत रहे है | एक साधारण व्यक्ति से महामानव बनने की यात्रामे भी अब्राहम लिंकन (Abraham Lincoln) ने अपनी विन्रमता नही छोडी |

Leave a Reply