महान गणितज्ञ आर्यभट की जीवनी | Aryabhatta Biography In Hindi

0
326
महान गणितज्ञ आर्यभट की जीवनी | Aryabhatta Biography In Hindi
महान गणितज्ञ आर्यभट की जीवनी | Aryabhatta Biography In Hindi

आर्यभट्ट (Aryabhatta) महान गणितज्ञ , ज्योतिषवेत्ता , खगोलशास्त्री के रूप में प्राचीन भारतीय इतिहास में अपना विशिष्ट स्थान रखते है | उन्होंने भारतीय गणित के साथ विश्व को ऐसा गणितीय सिद्धांत दिया , जिसकी परिकल्पना तत्कालीन समय में किसी अन्य देश के पास नही थी | आर्यभट्ट (Aryabhatta) ने दाशमिक पद्दति के प्रयोग का सबसे प्राचीन भारतीय उदाहरण प्रस्तुत किया | उनकी इस अंकन पद्दति को तीन भागो में बांटा गया था अंकन पद्दति , दाशमिक पद्दति और शून्य का प्रयोग | आइये अब आपको आर्यभट के जीवन से रुबुरु करवाते है |

आर्यभट्ट (Aryabhatta) का जन्म 476 ईस्वी पूर्व में पटना अर्थात पाटलीपुत्र में हुआ था | कुछ उन्हें अश्मक जनपद के निवासी मानते थे | यह जनपद गोदावरी और निर्मला के बीच स्थित था जिसकी राजधानी पैठण थी | आर्यभट (Aryabhatta) के सम्बद्ध में अन्य जानकारी जैसे उनके माता पिता परिवार आदि नही मिलती | आर्यभट्ट ने गणित और ज्योतिष की शिक्षा प्राप्त की थी | इस शिक्षा को प्राप्त करने के उपरांत आर्यभट्ट ने एक पुस्तक आर्यभट्टीय लिखी | इसमें 121 श्लोक है |

गीतिकापद , गणितपाद , कालक्रियापाद और गोलपाद , चार भागो में विभक्त इन पुस्तको में ज्योतिष तथा गणित संबधी जानकारी मिलती है | उनके द्वारा प्रयुक्त की गयी अंकन पद्दति को अरबो ने अपनाया और पश्चिमी देशो तक इनका प्रसार किया | अग्रेजी में भारतीय अंकमाला को अरबी अंक (Arabic Numerals) कहते है किन्तु अरब लोग इसे हिन्दसा कहते है | पश्चिम में अंकमाला का प्रचार होने से सदियों पहले से भारत में इसका प्रयोग हुआ | दशमिक पद्दति का प्रयोग आर्यभट्ट (Aryabhatta) ने (376-500) ईस्वी पूर्व किया ,जिसको अरबो ने ने भारत से सीखा | भारतीयों ने शून्य का प्रयोग सर्वप्रथम किया | अरबवासियों ने इसे भारत से सीखा और यूरोप में फैलाया |

बीजगणित में भारत उअर यूनान का योगदान था | आर्यभट्ट ने त्रिभुज के क्षेत्रफल को जानने का नियम निकाला ,जिसके फलस्वरूप त्रिकोणमितिय का जन्म हुआ | ज्योतिषशास्त्र में भी त्रिकोणमिति का प्रयोग किया जाता है | वर्तमान स्कूलो और कॉलेजो में आर्यभट्ट की पद्दति पर ही आधारित त्रिकोणमिति को पढाया जाता है | समकोण त्रिभुज की दो भुजाओं के अनुपात के लिए अंग्रेजी में साईन शब्द का प्रयोग होता है | यह आर्यभट्ट के ज्या और जीवा से बना है |

आर्यभट्ट (Aryabhatta) ने चन्द्रग्रहण और सूर्यग्रहण के कारणों का पता लगाया | उन्होंने अनुमान के आधार पर पृथ्वी की जिस परिधि का जो मान निकाला वह आज भी शुद्ध मान है | उन्होंने बताया कि सूर्य स्थिर है और पृथ्वी घुमती है | पृथ्वी अपनी धुरी के चक्कर लगाती है इसलिए खगोल में अन्तरिक्ष घूमता हुआ दिखाई पड़ता है | पृथ्वी के धुरी पर घुमने के कारण ही दिन-रात होते है | आर्यभट्ट ने आकाश के ग्रह नक्षत्रो की गतिविधियों के बारे में जो आँखों से जो कुछ भी देखा था उसे लिखा | उन्होंने कालक्रियापाद और गोलपाद में कालगणना और ज्योतिषशास्त्र के फलादेश तथा पृथ्वी की परिधि का शुद्ध मान आदि के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियाँ लिखी है |

आर्यभट्ट (Aryabhatta) वास्तव में एक महान गणितज्ञ ,खगोलवेत्ता तथा ज्योतिषाचार्य थे | उन्होंने सूर्यग्रहण ,चन्द्रग्रहण पृथ्वी की धुरी पर परिभ्रमण करने ,दिन-रात होने की स्थिति , ग्रह नक्षत्र संबधी जो महत्वपूर्ण जानकारियाँ तत्कालीन समय में दी थी वह आज भी उतनी ही सटीक है | उन्होंने गणितीय क्षेत्र में दाश्मलिक अंकन , शून्य तथा त्रिकोणमितिय पद्दतिया भारत को ही नही विश्व को भी दी |

आर्यभट्ट का जीवन एक नजर में

नाम आर्यभट्ट
जन्म वर्ष 476 ईस्वी
जन्म स्थान  कुसुमपुर , पाटलीपुत्र (वर्तमान पटना)
मृत्यु 550 ईस्वी
काल  गुप्त काल
कार्यक्षेत्र  गणित एवं नक्षत्र विज्ञान
प्रमुख कार्य शून्य का आविष्कार
पाई का मान ज्ञात किया
त्रिकोणमिति में त्रिभुज का मान निकाला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here