Carl Friedrich Gauss Biography in Hindi | चुम्बकत्व की खोज करने वाले वैज्ञानिक कार्ल फ्रेडरिच गॉस की जीवनी

0
279

Carl Friedrich Gauss Biography in Hindi | चुम्बकत्व की खोज करने वाले वैज्ञानिक कार्ल फ्रेडरिच गॉस की जीवनीगॉस एक (Carl Friedrich Gauss) ऐसे महान वैज्ञानिक थे जिनके नाम पर चुम्बकत्व की इकाई का नाम रखा रखा गया है | गॉस इकाई द्वारा चुम्बकीय क्षेत्र की तीव्रता मापी जाती है | यद्यपि गॉस (Carl Friedrich Gauss) एक गणितज्ञ थे लेकिन उन्होंने विद्युत चुम्बकत्व के क्षेत्र में काफी कार्य किया | गॉस इकाई में पृथ्वी का चुम्बकीय क्षेत्र लगभग एक तिहाई गॉस होता है जबकि किसी न्युट्रोन तारे की सतह पर चुम्बकीय क्षेत्र अरबो गॉस होता है |

गॉस (Carl Friedrich Gauss) का जन्म 30 अप्रैल 1777 को जर्मनी में हुआ था | यह एक गरीब माली के बेटे थे | शुरू से ही यह बहुत प्रतिभाशाली थे इसलिए ड्यूक फर्दीन्न्द ने इनकी शिक्षा का सारा खर्चा उठाया | उन्हें बचपन से ही संख्याओ में विशेष रूचि थी | जब वो विद्यार्थी ही थे तब उन्होंने ज्यामितीय में बहुत बड़ा आविष्कार किया | एक फूटे और परकार की सहायता से उन्होंने 17 भुजाओं वाला बहुहुज खोजा | यहा तक कि यूनान के महान गणितज्ञ भी इस कार्य को नही कर पाए थे |यह पहली बार था जिसे उन्होंने खोजा  ,असम्भव कार्य को उन्होंने सम्भव कर दिखाया |

असम्भव चीजो को सम्भव बनाना गणित के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण बात बन गयी | अपने जीवनकाल में गॉस (Carl Friedrich Gauss) एक प्रसिद्ध ज्योतिष वैज्ञानिक भी बने | उन्होंने इलियोट्रेप नामक मशीन का अविष्कार किया | इस मशीन की सहायता से सूरज के प्रकाश को लम्बी दूरियों तक परावर्तित किया जा सकता है | उन्होंने प्रकाश की सीधी परावर्तित किरणों को धरती की आकृति मापने के लिए प्रयोग किया | गॉस ने चुम्बकत्व का अध्ययन किया | उन्होंने पृथ्वी के चुम्बकीय ध्रुवो की स्थिति पता लगाने का प्रयास किया |

चुम्बकीय प्रभावों के लिए उन्हें एक इकाई की आवश्यकता थी ,उस इकाई पर उन्होंने सन 1832 में काम किया | उन्ही दिनों उन्होंने भाप की सिद्धांत पर भी कार्य किया | चुम्बकत्व की शक्ति मापने की इकाई का नाम उन्हें के नाम पर रखा गया | चूँकि उनका जन्म जर्मनी के ब्रुन्सविक नामक स्थान पर हुआ था इसलिए वही पर 17 कोने वाले तारे पर उनकी मृत्यु के बाद उनकी प्रतिमा बनाई गयी | सन 1855 में इस महान वैज्ञानिक अक देहांत हुआ था |

गॉस (Carl Friedrich Gauss) के चुम्बकत्व के क्षेत्र में दिए गये उनके योगदानो को कभी नही भुलाया जा सकता है | गॉस इकाई चुम्बकत्व के लिए आज भी सारी दुनिया में प्रयोग की जाती है |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here