भौतिकविद डा.दौलत सिंह कोठारी की जीवनी | Daulat Singh Kothari Biography in Hindi

0
127
भौतिकविद डा.दौलत सिंह कोठारी की जीवनी | Daulat Singh Kothari Biography in Hindi
भौतिकविद डा.दौलत सिंह कोठारी की जीवनी | Daulat Singh Kothari Biography in Hindi

जाने माने भौतिकविद दौलत सिंह कोठारी (Daulat Singh Kothari) का जन्म 6 जुलाई 1906 को राजस्थान जिले के उदयपुर शहर में हुआ था | उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से भौतिक विज्ञान में M.Sc. किया और 1933 में कैब्रिज विश्वविद्यालय से Ph.D. की | Daulat Singh Kothari दिल्ली विश्वविद्यालय के भौतिक विज्ञान के सन 1934-35 तक हेड भी रहे | उनके पढाने का तरीका इतना सहज था कि विधार्थी उनकी कक्षाओं में जाने के लिए लालायित रहते थे | उसके बाद वो रक्षा मंत्रालय में रक्षामंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार रहे |

वैज्ञानिक सलाहकार का पद उन्होंने सन 1948 से 1961 तक सम्भाला | सन 1961 से 1972 तक वे UGC के चेयरमैन रहे | सन 1981 में वे जवाहरलाल विश्वविद्यालय के चांसलर रहे | सारे जीवन भर वे बड़े ही जिम्मेदार पद सम्भालते रहे | डा.कोठारी जाने माने एस्ट्रोफिजिस्ट थे | उन्होंने सांख्यिकी थर्मोडाईनॅमिक्स और व्हाइत्वार्फ़ पर बहुत अनुसन्धान कार्य किये | उन्होंने यह दिखाया कि केवल दाब द्वारा परमाणुओं को आयनित किया जा सकता है |

डा.कोठारी (Daulat Singh Kothari) ने  नाभिकीय विस्फोटो और उनके प्रभावों से संबधित एक पुस्तक लिखी | यह पुस्तक कई भाषाओं में प्रकाशित हुयी | इन्होने बहुत से वैज्ञानिक शोधपत्र भी छपवाए | डा.कोठारी (Daulat Singh Kothari) इंडियन नेशनल साइंस अकादमी के वाइज प्रेसिडेंट और प्रेसिडेंट भी रहे | सन 1962 को डा.कोठारी को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया | सन 1966 को उन्हें शान्तिस्वरूप भटनागर पूरस्कार से भी सम्मानित किया गया | सन 1973 में उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया | सन 1978 में उन्हें मेघनाथ साहा पुरुस्कार मिला |

डा.कोठारी (Daulat Singh Kothari) सारा जीवन उच्च पदों पर रहे और 1983 में उनकी मृत्यु हो गयी | 2011 में उनके सम्मान में उनके नाम का स्टाम्प पेपर भी निकाला गया | उन्हें वैज्ञानिक भाषण देने का बहुत शौक था | उनके भाषण अत्यंत सरल भाषा में होते थे | डा.कोठारी (Daulat Singh Kothari) अपने समय के जाने माने भौतिकशास्त्री रहे | दिल्ली विश्वविद्यालय में इनके नाम से एक बॉयज हॉस्टल भी है और उनके नाम पर ही दिल्ल्ली विश्वविद्यालय में DS Kothari Research Centre बनाया गया |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here