Dhirendra Nath Ganguly Biography in Hindi | गुरुदेव की छाया धीरेद्रनाथ गांगुली की जीवनी

Dhirendra Nath Ganguly Biography in Hindi

Dhirendra Nath Ganguly Biography in Hindi

शान्ति-निकेतन में शिक्षित-दीक्षित धीरेन्द्रनाथ गंगोपाध्याय (Dhirendra Nath Ganguly) यानि धीरेन गांगुली ने गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की छत्रछाया में “वाल्मीकि प्रतिभा” , “राज” , तथा “डाकघर” आदि नाटको का माध्यम से अभिनय सीखा | करियर के प्रारम्भ में उन्होंने काफी संघर्ष किया | जमशेद जी मदन की थिएटर कम्पनी में नौकरी की | वही कार्यरत नितीश लाहिड़ी उनकी प्रतिभा से अत्यंत प्रभावित हुए | बाद में लाहिड़ी, गांगुली और उनके अन्य व्यवसायी ने मिलकर “इंडो-ब्रिटिश कम्पनी” की स्थापना की

इस कम्पनी के बैनर तले उन्होंने “इंग्लैंड रिटर्न्स” यानि “बिलेत फ़रात (1919)” फिल्म बनाई | यह भारत की प्रथम सामाजिक व्यंग्यात्मक फिल्म बनी | इस फिल्म ने टिकट खिड़की पर धूम मचा दी | इस फिल्म की सफलता के बाद इस कम्पनी ने “यशोदा नन्दन” और “साधू और शैतान” नामक दो ओर फिल्मे बनाई | ये दोनों फिल्मे भी खूब चली | धीरेन गाँगुली ने अब तक काफी अनुभव प्राप्त कर लिया था अत: इस कम्पनी से पृथक होकर उन्होंने हैदराबाद में स्वयं की “लोटस फिल्म कम्पनी” की स्थापना की |

इस कम्पनी के बैनर तले उन्होंने “इंद्रजीत” और “लेडी टीचर” , “हाडा गौरी” , सती सीमंतिनी जैसी सामाजिक व्यंग्यात्मक और एतेहासिक फिल्मे बनाई | धीरेन गांगुली (Dhirendra Nath Ganguly) 1928 में कोलकाता वापस आ गये और उन्होंने “ब्रिटिश डोमिनियन फिल्म कम्पनी” बनाई | इस नये बैनर के तले उन्होंने 1928 से 1931 तक “जन्मान्तर” , “आलोक बाबू” तथा “चरित्रहीन” आदि दस फिल्मे बनाई | धीरेन गांगुली (Dhirendra Nath Ganguly) का योगदान यह रहा कि उनके माध्यम से कोलकाता के सम्भ्रान्त परिवारों में इस कला के प्रति सम्मान बढ़ा और नये युवक-युवतियाँ इसकी तरफ मुताबिक़ हुए |

उल्लेखनीय है कि उस जमाने में धीरेन गांगुली (Dhirendra Nath Ganguly) की फिल्म कम्पनियों के माध्यम से ही देवकी बोस जैसे कुशल छायाकार सहित दिनेश रंजन रॉय , प्रमथेश चन्द्र बरुआ और कृष्ण गोपाल जैसे कलाकार प्रकाश में आये | 26 मार्च 1893 को कोलकाता में जन्म हुआ था और 85 वर्ष की उम्र में 18 नवम्बर 1978 को उनका देहांत हो गया | उन्हें 1974 में पद्मविभूषण और 1975 में दादा साहब फाल्के पुरूस्कार से नवाजा गया |

Leave a Reply