Galileo Galilei Biography in Hindi | गैलिलियो गैलिली की जीवनी

गैलिलियो गैलिली (Galileo Galilei) विश्व के अविष्कारको में अपने गति संबधी नियम ,गुरुत्वाकर्षण एवं दूरबीन संबधी आविष्कार के लिए जाने जाते है | गैलिलियो गैलिली (Galileo Galilei) को अपने आविष्कार के लिए प्राणों का बलिदान देकर मूल्य चुकान पड़ा | विश्व को उन्होंने अपनी इस महत्वपूर्ण खोज के द्वारा जो महान देन दी , वह अमूल्य है | आइये गैलिलियो गैलिली (Galileo Galilei) की जीवनी से आपको रुबुरु करवाते है |

गैलिलियो गैलिली (Galileo Galilei) का जन्म 15 फरवरी 1564 को इटली के पीसा नामक शहर में हुआ था | उनके पिता का नाम विनसेंजो गैलिली (Vincenzo Galilei) था जो एक संगीतज्ञ (Music Theorist) थे | उनकी माता का नाम जूलिया (Giulia) था | सात भाई-बहनों में गैलिलियो गैलिली सबसे बड़े थे | उनका परिवार अत्यंत गरीब था | बचपन की शिक्षा उन्होंने फ्लोरेंस नगर में प्राप्त की | जब बड़े हुए तो उन्होंने अपने पिता के काम में हाथ बंटाया | उनके पिता ने उन्हें प्रतिभावान जानकर उनकी पढाई पुन: शुरू करा दी | 1581 में उन्होंने चिकित्सा विज्ञान में प्रवेश लेकर अपनी पढाई जारी रखी |

चिकित्साशास्त्र में उनकी रूचि न होकर वैज्ञानिक आविष्कार की दिशा में अधिक थी | गैलिलियो गैलिली (Galileo Galilei) के पिता का देहांत 1591 में हो गया | बड़े होने के कारण माता तथा भाई-बहनों का दायित्व गैलिलियो गैलिली पर आ पड़ा | भयंकर आर्थिक तंगी के बीच गैलिलियो ने अपनी बहिनों की शादी हेतु दहेज की राशि जुटाना बहुत कठिन पड़ा | इटली में उस समय दहेज की कुप्रथा प्रचलित थी | गैलिलियो ने आर्थिक स्थिथि में सुधार लाने के लिए ट्यूशन के साथ साथ कपड़े की दूकान और गणित उपकरण की दूकान खोली जिससे उन्हें आर्थिक लाभ हुआ | इन पारिवारिक जिम्मेदारियों के बीच गैलिलियो अध्ययन और अध्यापन में जुटे रहे |

4 अप्रैल 1597 में गैलिलियो (Galileo Galilei) ने एक ऐसी दूरबीन (Telescope) बनाई जो 32 गुना विशाल देख सकती थी | अपनी दूकान में गैलिलियो ने 1609 में उसकी बिक्री आरम्भ कर दी | उस समय जो दूरबीन (Telescope) बिक रही थी वह कुछ दूरी तक देखने के काम आती थी | इस दूरबीन ने यह साबित किया कि सूर्य ममे धब्बे है | आकाशगंगा तारो का झुण्ड है | बृहस्पति ग्रह के कई उपग्रह है | कैथोलिक धर्म में विश्वास रखने वाले लोगो ने गैलिलियो की दूरबीन संबधी आविष्कार की बहुत आलोचना की | बाइबिल (Bible) में यह लिखा गया था कि सूर्य घूमता है और पृथ्वी स्थिर है | गैलिलियो ने इस सिद्धांत का विरोध करते हुए हुए यह साबित किया कि पृथ्वी घुमती है | गैलिलियो ने अपनी पुस्तक में इन सिद्धांतो को विस्तारपूर्वक लिखा था |

गैलिलियो (Galileo Galilei) के इस सिद्धांत पर उनके विरोधियो ने मुकदमा चलाया जिसका मकसद गैलिलियो को दोषी साबित कर उन्हें प्राणदंड देना था क्योंकि वे बाइबिल में पृथ्वी तथा सूर्य के संबध में लिखी हुयी गलत बातो को स्वीकार नही करना चाहते थे | धर्म विरोधी मानकर गैलिलियो पर मुकदमे चले | विश्वविद्यालय की शिक्षा के दौरान एक बार गैलिलियो इटली के पीसा नगर के गिरिजाघर के पास से गुजर रहे थे उन्होंने देखा कि एक आदमी हाथो में तेल का पीपा लिए सडक के लैम्प-पोस्ट के पास रुका | पोस्ट के उपर लटक रही हांडी को उसने रस्सी के सहारे नीचे उतारा और उसमे तेल भरा | उसे जलाकर हांडी में रखा और हांडी का ढक्कन बंदकर लैम्प जलाकर फिर रस्सी के सहारे उपर चढ़ा दिया |

बालक ने देखा कि वह हांडी जितनी बांयी ओर हिलती है उतनी ही दांयी ओर भी हिलती है | दोनों दिशाओं के जाने का समय दर्ज कर उसने पेंडुलम के सिद्धांत का प्रतिपादन कर डाला | इसके सौ साल बाद हॉलैंड के वैज्ञानिक हाईजन ने पेंडुलम घड़ी का आविष्कार किया | विश्वविद्यालय में पढ़ते हुए गैलिलियो ने यह फैसला लिया कि वह गणित और भौतिक विज्ञान ही पढ़ेंगे | विश्वविद्यालय की फीस अदा न कर पाने के कारण उन्हें पढने से वंचित कर दिया गया |

फ्लोरेंस लौटकर उन्होंने हांडी वाली घटना को यादकर उसका संबध घड़ी से जोड़ा | यदि घड़ी में कोई चीज लटकाई जाए तो वह घड़ी की टिकटिक के साथ हिलती रहेगी | पेंडुलम की गति धीमी होगी तो समझ लो कि वह रुकने वाला है | रुकने का अर्थ होगा घड़ी में चाबी भरनी होगी | शरीर की नाडी की गति घड़ी की टिकटिक की गति से मिलाकर देखे कि वह गति घड़ी की टिकटिक से कम या ज्यादा है तो हमारे शरीर की गति सामान्य नही है व्यक्ति अस्वस्थ्य है | नाड़ी की तेज और धीमी गति चिकित्सा की दृष्टि में बीमारी का लक्षण है \ मानव शरीर की चिकित्सा के लिए गैलिलियो की यह खोज बहुत काम आयी | उन्होंने इसकी जांच के लिए जो यंत्र बनाया उसका नाम पल्सीमीटर था |

गैलिलियो (Galileo Galilei) ने अपनी एक महत्वपूर्ण खोज में अरस्तु के उस सिद्दांत को गलत बताया कि यदि पृथ्वी पर उपर से कम भार वाली और अधिक भार वाली वस्तुओ को एक साथ गिराया जाए तो अधिक भार वाली वस्तु जल्दी गिरेगी | पीसा की मीनार परचढकर उन्होंने अधिक और कम भार वाले गोलों को एक साथ गिराया | इस एतेहासिक प्रयोग को देखने के लिए धार्मिक नेता ,वैज्ञानिक ,अध्यापक और बुद्धिजीवी एकत्र थे | लोगो ने स्पष्ट देखा कि दोनों गोले एक साथ नीचे आ गिरे |

इस तरह अरस्तु (Aristotle) के सिद्धांत के गलत साबित होने पर लोगो ने उनकी प्रशंशा करने के बजाय उनकी घोर निंदा की | उन्हें घमंडी ,बुजुर्गो की निंदा करने वाला बताया | दुखी गैलिलियो ने आविष्कार एवं खोज का रास्ता नही छोड़ा | अपनी दूरबीन द्वारा आकाश में होने वाली चमत्कारिक घटनाओं को गैलिलियो ने बताकर खगोल विद्या के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण सिद्धांत प्रतिपादित किये जिसमे ध्वनि ,प्रकाश ,रंग तथा विश्व की बनावट पर तर्कपूर्ण विचार शामिल थे |1611 में दूरबीन के आविष्कार के लिए गैलिलियो को सम्मानित किया गया था | गैलिलियो ने 1585-86 में एक हाइड्रोस्टेटिक बैलेंस तैयार किया | इसमें विभिन्न तरल पदार्थो के गुणों का अनुमान लगना आसान हो गया | तीन वर्ष पश्चात उन्होंने ठोस पदार्थो की गति के नियमो का प्रतिपादन किया | उनके अविष्कारों के कारण उन्हें आधुनिक आर्कीमिडिज कहा जाने लगा |

1632 में गैलिलियो (Galileo Galilei) ने जब अपने शोध ग्रन्थ में सूर्य को ब्रह्मांड का केंद्र बताया , पृथ्वी को नही और पृथ्वी को अस्थिर तथा सूर्य को स्थिर बताया तो उन पर कट्टरपंथीयो द्वारा धर्म विरोधी कहकर आक्षेप लगे | उन्हें आठ वर्षो के लिए नजर बंद कर दिया गया था | इस दौरान उन्होंने सृजन क्रम जारी रखा | 1637 में वे पूर्णत: नेत्रहीन हो चुके थे | 8 जनवरी 1642 को उन्हें बुखार ने जकड़ लिया | इस तरह एक महान वैज्ञानिक का निधन हो गया | गैलिलियो (Galileo Galilei) ने अपने गति संबधी तथा गुरुत्वाकर्षण संबधी जो नियम प्रतिपादित किये , उसी को न्यूटन ने आगे बढाया | जीवन के अंतिम क्षण उनके लिए दुःखदायी रहे |

Leave a Reply