Hans Lippershey Biography in Hindi | दूरदर्शी के अविष्कारक हेन्स लिपरसे की जीवनी

Hans Lippershey Biography in Hindi | दूरदर्शी के अविष्कारक हेन्स लिपरसे की जीवनीहेन्स लिपरसे (Hans Lippershey) डच चश्मा निर्माता थे जिन्होंने दूरदर्शी का आविष्कार किया था | एक दिन काम करते करते सन 1606 ईस्वी में इन्होने दो लैंस हाथ में लिए और एक-दुसरे से कुछ दूरी पर रखकर इनके आर-पार देखा | इनके आश्चर्य का ठिकाना नही रहा , जब इन्हें दूर की वस्तुए पास दिखाई देने लगी | यही सर्वप्रथम दूरदर्शी था | इसके बाद लिपरसे (Hans Lippershey) ने दो लैंसो को एक नली के विपरीत किनारों पर लगाया और इसे नली के आर-पार देखा | लैंसो के बीच की दूरी को समायोजित करके दूर की वस्तुए साफ़ दिखने लगी | यह यंत्र लड़ाई में बहुत उपयोगी साबित हुआ | इस यंत्र की सहायता से शत्रु के जलयानो और सेनाओं को आवर्धित करके देखा जाना सम्भव हो पाया |

डच सरकार ने इनके इस अविष्कार के लिए इन्हें 900 फ़्लोरिन की धनराशी इनाम में दी | इसी वर्ष बाद में इस यंत्र को बनाया और लन्दन,पेरिस ,जर्मनी और इटली के बाजारों में बेचा गया | सन 1609 में इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक और ज्योतिषशास्त्री गैलिलियो ने अपना स्वयं का टेलिस्कोप बनाया और इन्होने अपने बनाए हुए दूरदर्शी से आकाश की छटा देखी | इन्होने देखा कि चद्रमा की सतह जो देखने में चिकनी दिखती है वह उबड खाबड़ है | इन्होने शुक्र ग्रह को देखा और शनि के छल्लो को भी देखा |

कुछ लोग गैलिलियो को भी टेलिस्कोप के आविष्कार का श्रेय देते है लेकिन वास्तव में टेलिस्कोप का आविष्कार हेन्स लिपरसे (Hans Lippershey) ने ही किया था | इस समय में बनाये गये दूरदर्शी जो प्रतिबिम्ब प्रदर्शित करते थे उनकी गुणवत्ता काफी खराब होती थी | धीर धीरे दूरदर्शियो की गुणवत्ता में सुधार होते गये | आज हमारे पास अनेक प्रकार के दूरदर्शी उपलब्ध है जिसमे न्यूटोनियम दूरदर्शी , गैलिलियन दूरदर्शी आदि मुख्य है | इनको युद्ध के मैदान में , खगोल विज्ञान में और मनोरंजन के अनेक उपयोगो में प्रयोग किया जाता है |

दूरदर्शी के अविष्कारक हेन्स लिपरसे (Hans Lippershey) की 1619 में मृत्यु हो गयी | इस हम कभी नही भुला सकते | आज ऐसे-ऐसे दूरदर्शी बना लिए गये है जो अन्तरिक्ष विज्ञान के अनुसन्धानो में प्रयोग हो रहे है | हबल अन्तरिक्ष दूरदर्शी एक ऐसा दूरदर्शी है जो अन्तरिक्ष में घूमता रहता है और वहा के विषय की जनकारी प्रदान करता रहता है |

Leave a Reply