Manna Dey Biography in Hindi | मन्ना डे की जीवनी

0
27
Manna Dey Biography in Hindi
Manna Dey Biography in Hindi

मन्ना डे (Manna Dey )का वास्तविक नाम था प्रबोधचन्द्र डे | उनके पिता का नाम पूर्णचद्र डे तथा माता का नाम महामाया डे | उनका जन्म कलकत्ता में हुआ | अपने माता-पिता के अलावा वे अपने चाचा संगीताचार्य के.सी.डे से बहुत प्रभावित रहे | स्कॉटिश चर्च स्कूल एवं कॉलेज से प्रारम्भिक शिक्षा प्राप्त की | विद्यासागर कॉलेज से स्नातक की परीक्षा पास की | बचपन से उन्हें कुश्ती और मुक्केबाजी का शौक रहा | हंसमुख व्यकित्त्व के स्वामी मन्ना डे इन खेलो में उत्क्रुत्ष्ट प्रदर्शन करते रहे | छात्र जीवन में निरंतर तीन साल तक अंतरमहाविद्यालय गायन प्रतियोगिताओ में प्रथम आते रहे |

अपने चाचा से तथा उस्ताद दाबिर खान से संगीत की शिक्षा ली | 1942 में मुम्बई में आकर वे के.सी.डे तथा सचिनदेव बर्मन के सहायक के रूप में काम करने लगे | धीरे धीरे उन्होंने स्वयं अकेले संगीत निर्देशन शुरू कर दिया | साथ साथ वे उस्ताद अमान अली और उस्ताद अब्दुल रहमान खान से हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत सीखते रहे | तमन्ना फिल्म से पार्श्वगायन की भूमिका शुरू हुयी फिर तो यह सिलसिला साल दर साल चलता रहा , चलता रहा |

सुरैया , लता मंगेशकर , आशा भोसले सभी के साथ उनके युग्मगीत प्रसिद्ध हुए | किशोर कुमार के साथ अलग अलग शैली के गीत उन्होंने गाये | हेमंत कुमार के साथ बांगला भाषा में अनेक गीत गाये | संगीत के क्षेत्र में कई नये प्रयोग भी उन्होंने किये | शास्त्रीय संगीत के साथ पॉप का मिश्रण कर संगीत-गीत तैयार किये | पाश्चात्य शैली के साथ किये गये प्रयोगों में उन्हें अत्यंत लोकप्रिय बनाया | महान शास्त्रीय संगीतकार भीमसेन जोशी के साथ प्रसिद्ध गीत “केतकी , गुलाब, जूही” गाया | किशोर कुमार के साथ गाये ये गीत बहुत लोकप्रिय हुए “ये दोस्ती हम नही छोड़ेंगे” तथा “एक चतुर नार” |

बहुमुखी प्रतिभा के धनी मन्ना डे (Manna Dey) ने अपने पार्श्वगायन के दीर्घस्तर में 35000 गीत गाये | सुगम संगीत , शास्त्रीय संगीत से लेकर रविन्द्र संगीत तक उनकी कीर्ति का प्रसार रहा है | 2005 में “जीवनेर जलसाघरे” नामा से उनकी आत्मकथा आनन्द प्रकाशन से बंगला में प्रकाशित हुयी | इसकी लोकप्रियता का आलम यह रहा कि पेंगुइन बुक्स में Memories Alive के नाम से इसका अंग्रेजी अनुवाद छापा | हिंदी और मराठी में भी इसके अनुवाद प्रकाशित हुए |

प्रतिभाशाली मन्ना डे (Manna Dey) ने 1953 में केरल की सुलोचना कुमारन से विवाह किया | 1956 और 1958 में सुरोमा और सुमिता नाम की दो पुत्रिया हुयी | बम्बई में 50 वर्ष बिताने के बाद वे बेंगलुरु के कल्याणनगर में रहते थे | 1 मई 2012 को उन्होंने अपना 93वा जन्मदिन मनाया और 24 अक्टूबर 2013 को उनका निधन हो गया |

उपलब्धिया

  • भारत सरकार द्वारा 1971 में पद्मश्री
  • भारत सरकार द्वारा 2005 में पद्मभूषण
  • 2007 में दादासाहब फाल्के पुरुस्कार से सम्मानित
  • 2011 में Filmfare Lifetime Achievement Award
  • मन्ना डे 1942 से 1967 तक लगभग 665 फिल्मो से जुड़े रहे |
  • 1969-2011 तक लगभग 25 प्रतिष्टित पुरुस्कारों से सम्मानित हुए | इनमे नेशनल फिल्म अवार्ड , फिल्मफेयर अवार्ड शामिल है |
  • कलकक्ता के संगीत भवन में मन्ना डे म्यूजिकल आर्काइव्ज की स्थापना की गयी है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here