Simon Stevin Biography in Hindi | साइमन स्तेविन की जीवनी

0
31
Simon Stevin Biography in Hindi | साइमन स्तेविन की जीवनी
Simon Stevin Biography in Hindi | साइमन स्तेविन की जीवनी

यांत्रिकी एवं द्रव स्थितिकी में महत्वपूर्ण योगदान करने वाले तथा दशमलव को सामान्य प्रयोग में लाने वाले साइमन स्टेविन (Simon Stevin) का जन्म 1548 में ब्रग्स फ्लेंदर्स में हुआ था जो कि अब बेल्जियम में पड़ता है | स्तेविन (Simon Stevin) के परिवार एवं मूल के बारे में अत्यल्प जानकारी ही उपलब्ध है | पढाई लिखाई पुरी  करने के बाद साइमन ने एक व्यापारी के यहाँ पर क्लर्क के रूप में नौकरी करना प्रारम्भ कर दिया | शीघ्र ही उन्हें हॉलैंड में सरकारी नौकरी मिल गयी | इसके बाद विभिन्न सरकारों जैसे स्कैंड़ोनेविया , पोल्लैंड  तथा पर्शिया सरकारों की सेवा की और सेना में क्वार्टर मास्टर जनरल के पद तक पहुचे | उनके उपर तमाम महत्वपूर्ण सार्वजनिक कार्यो को सम्पन्न कराने का दायित्व आया |

जब एक इंजिनियर के रूप में वे अनेक व्यावहारिक समस्याओं का निराकरण करते थे तो वे उसके पीछे छिपे मौलिक सिद्धांत पर भी चिन्तन करते थे उदाहरण के तौर पर भारो के स्थानान्तरण के दौरान उन्होंने एकल या बहुल घिरनियो की व्यवस्था एवं कार्य प्रणाली का अध्ययन किया | इस क्रम में उन्होंने बलों के पैरेलेलोग्राम सिद्धांत की पहचान एवं अध्ययन किया | इसी प्रकार उन्होंने पाया कि तरल पदार्थ का दबाव केवल उसकी कुल ऊँचाई पर निर्भर करता है और इससे द्रव स्थितिकी के क्षेत्र में नये नये उपयोग विकसित होने लगे | अब छोटी मात्रा में तरल पदार्थ को दबाकर बड़े बड़े कार्य सम्पन्न कराए जाने लगे |

हाइड्रोलिक प्रेस के बाद उन्होंने तैरती हुयी वस्तुओ के संतुलन की स्थीतियो का गहन अध्ययन किया | उन्होंने तैरती हुयी वस्तु की स्थिरता की स्थिति का भी आकलन कर लिया | उन्होंने भी गैल्लिलियो की भाँती एक उंचाई से हल्की एवं भारी वस्तुओ को गिराकर गिरने के समय की गणना की ओर सिद्ध किया कि गिरने के समय का वस्तु के भार से कोई संबध नही है | उनका यांत्रिकी संबंधी योगदान उनकी पुस्तक में वर्णित है जो कि सन 1586 में प्रकाशित हुयी और बाद में लैटिन सहित अन्य भाषाओं में प्रकाशित हुयी |

उन्होंने दशमलव प्रणाली को पश्चिम में आम जनता के बीच लोकप्रिय बनाने में योगदान किया | इस संबध में उनके विचार उनकी पुस्तक में प्रकाशित हुए जो सन 1585 में छपकर आयी थी | बाद में इसका भी अन्य भाषाओं में अनुवाद हुआ | साइमन का देहांत सन 1620 में हुआ था स्थान के बारे में विवाद है | कुछ के अनुसार हॉलैंड के लेडेन नामक स्थान पर हुआ था तो कुछ के अनुसार हेग में |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here