Ardeshir Irani Biography in Hindi | स्वर के शिल्पकार आर्देशिर एम.ईरानी की जीवनी

0
341
Ardeshir Irani Biography in Hindi
Ardeshir Irani Biography in Hindi

हिंदुस्तान की प्रथम सवाक् फिल्म “आलमआरा” और प्रथम रंगीन दृश्य “किसान कन्या” बनाने वाले अत्यंत साहसी और क्षमतावान आर्देशिर ईरानी (Ardeshir Irani) ने अपने फिल्म करियर की शुरुवात बतौर घुमन्तु फिल्म निर्माता के रूप में की | उन्होंने इसका नाम Alexender Theatre रखा | वह विदेशी फिल्मो की कम्पनी Universal Pictures Corporation के मुम्बई स्थित एजेंट भी थे | ईरानी ने जब अपने थिएटर से फाल्के की फिल्म “कालिया मर्दन” और “कृष्ण जन्म” का सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया तब वे भी फिल्म बनाने के लिए प्रेरित हुए |

ईरानी (Ardeshir Irani) ने फाल्के की फिल्म कम्पनी के पूर्व मेनेजर भोगीलाल द्वे के साथ मिलकर सन 1922 में Star films LTD कम्पनी की स्थापना की और उसी साल उन्होंने “वीर अभिमन्यु” नामक फिल्म बनाई जिसमे उस समय की चर्चित अभिनेत्री फातिमा बेगम और उनकी पुत्री सुल्ताना ने अभिनय किया था | कालान्तर में फातिमा बेगम भारत की प्रथम महिला निर्माता-निर्देशक बनी | जुबैदा फातिमा बेगम की ही पुत्री थी | ईरानी ने द्वे के साथ मिलकर लगभग सत्रह फिल्मे बनाई जिनमे प्रमुख थी “रत्नावली” , “कृष्ण-अर्जुन युद्ध”, “चन्द्रगुप्त” आदि |

आर्देशिर ईरानी (Ardeshir Irani) ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा पुरी करने के बाद मुम्बई के जे.जे.स्कूल ऑफ़ आर्ट में कला का अध्ययन किया था | कुछ दिनों वहा अध्यापन किया और फिर पिता के वाध्ययंत्र और फोनोग्राम के व्यवसाय में हाथ बंटाने लगे | इसी सिलसिले में उनका कई विदेशी कम्पनियों से सम्पर्क हुआ और जल्द ही वह विदेशी फिल्मो का आयात कर उस प्रदर्शित करने लगे | दरअसल 1930 में आर्देशिर ईरानी ने यूनिवर्सल फिल्म की “शो बोट” फिल्म देखी थी जिसमे चालीस फीसदी संवाद रखे गये थे |

संवाद वाली फिल्म देखकर ईरानी बेहद प्रभावित हुए | उन्होंने निश्चय किया कि क्यों न इसी तर्ज पर पुरी तरह से बोलती फिल्म का निर्माण किया जाए लेकिन इसके लिए ध्वन्यांकन तकनीक का ज्ञान जरुरी था | ईरानी (Ardeshir Irani) इस ज्ञान को अर्जित करने के लिए लन्दन गये जहा उन्होंने पन्द्रह दिन रहकर ध्वन्यांकन तकनीक की जानकारी ली | सन 1926 के अंत तक ईरानी ने “इम्पीरियल फिल्म्स कम्पनी” की स्थापना की जिसके द्वारा 65 फिल्मो का निर्माण किया गया |

इम्पीरियल ने सन 1927 में एक फिल्म बनाई “वाइल्ड कैट ऑफ़ बॉम्बे” | इस फिल्म में सुलोचना ने अभिनय किया था | यह उस समय की अत्यंत सफल फिल्म मानी गयी थी | फिल्म के निर्देशक थे एम भगनानी | सुलोचना को साथ लेकर ईरानी (Ardeshir Irani) ने इम्पीरियल के बैनर तले अन्य फिल्मे बनाई “अलादीन और उसका चमत्कारी चिराग” , “अनारकली” , “माधुरी” , “हीर-रांझा” , “अलीबाबा और जादुई बांसुरी” इत्यादि | वास्तव में हिंदुस्तान सिनेमा के विकास में इरानी का बेहद अहम योगदान है |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here