कुमारी मायावती की जीवनी | Kumari Mayawati Biography in Hindi

0
166
कुमारी मायावती की जीवनी | Kumari Mayawati Biography in Hindi
कुमारी मायावती की जीवनी | Kumari Mayawati Biography in Hindi

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्षा एवं दलित समाज की उद्धारक “बहन जी” के नाम से प्रसिद्ध कुमारी मायावती (Mayawati) एक दलित अदम्य साहस की प्रतिमूर्ति है | उन्होंने अपना सर्वस्व जीवन बहुजन समाज के उत्थान के लिए समर्पित कर दिया क्योंकि उनका राजनितिक लक्ष्य बहुजन समाज को देश की सत्ता पर काबिज करवाना है | उन्होंने आजीवन अविवाहित करने का प्रण लिया था ताकि वे पुरे समर्पण के साथ बहुजन समाज की सामाजिक एवं आर्थिक हालात को बेहतर बना सके |

मायावती (Mayawati) का जन्म 15 जनवरी 1956 को दिल्ली में हुआ था | उनके पिता का नाम श्री प्रभुदास एवं माता का नाम श्रीमती रामरती है | उनके पिता सेवानिवृत कर्मचारी है तथा माताजी एक कुशल गृहणी है | उनके पैतृक परिवार में उनके अतिरिक्त 6 बहने तथा दो भाई है | उनका पैतृक गाँव बादलपुर जिला गौतमबुद्ध नगर उत्तरप्रदेश है | उनकी शैक्षणिक योग्यता बी.ए. (1975), बी.एड (1976), एल.एल.बी है |

उनकी राजनितिक यात्रा 14 अप्रैल 1984 (अम्बेडकर जयंती) को स्थापित बहुजन पार्टी की स्थापना के दिन से प्रारम्भ हुयी | एक साधारण सदस्य से अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्षा के पद तक का सफर उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से तय किया | उन्होंने वर्ष 1977 से 1984 तक अध्यापन कार्य किया | बाद में बहुजन पार्टी के संस्थापक स्व.काशीराम की प्रेरणा से उन्होंने बसपा के लिए कार्य शुरू कर दिया | अपने आत्मविश्वास , मानवीय मूल्यों एवं दृढ़ विश्वास तथा अद्भुत शक्ति के कर्ण वे आगे बढती रही |

मायावती (Mayawati) के नाम की भी क रोचक कहानी है | 15 जनवरी 1956 को प्र्भुदासके घर पर एक कन्या का जन्म हुआ और संयोगवश उनकी पदोन्नति UDC के पद पर इसी तिथि को हुयी तथा स्थानान्तरण एक विशिष्ट एवं अपेक्षित स्थान पर हो गया | इस खुशी में उन्होंने नवजात कन्या का नाम मायावती रख दिया था | मायावती (Mayawati) का मिशन है मानवता पर आधारित समाज व्वयस्था कायम करना | सामाजिक क्रान्ति उनका मूल लक्ष्य है |

इसी उद्देश्य से उन्होंने अपनी सरकारी सेवा से त्यागपत्र दे दिया था और सक्रिय राजनीती में प्रवेश ले लिया | दिसम्बर 1984 के लोकसभा चुनावों में वे कैराना (मुजफ्फरनगर) लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से बसपा से चुनी गयी | 1985 में वे बिजनौर सुरक्षित लोकसभा क्षेत्र से चुनी गयी | वर्ष 1989 में बसपा एक राजनितिक पार्टी के रूप में उभरी | 1989 में वे बिजनौर से चुनाव जीत गयी | वे तीन बार लोकसभा सदस्य , 2 बार राज्यसभा सदस्य , 4 बार मुख्यमंत्री और 4 बार विधानसभा सदस्य रही |

परन्तु वर्ष 1991 में वे बिजनौर लोकसभा से चुनाव हार गयी | तथापि 1992 में वे होशियारपुर लोकसभा क्षेत्र (पंजाब) से चुनी गयी |2 अप्रैल 1994 से 2 अप्रैल 2000 तक 6 वर्षो के लिए वे राज्यसभा की सदस्य चुनी गयी | 3 जून 1995 को उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री बनने वाली पहली दलित महिला बनी | इस एतेहासिक एवं लोकतान्त्रिक घटना ने उत्तर प्रदेश के इतिहास में एक नया अध्याय जोड़ दिया | इसके बाद 1996 विधानसभा चुनावों में बिल्सी सुरक्षित तथा हरोड़ा जिला सहारनपुर उत्तर प्रदेश से एक साथ विजय प्राप्त के |

त्रिशंकु विधानसभा परिणाम के कारण बसपा , भाजपा के बीच छह छह माह के मुख्यमंत्री पद का समझौता होने के फलस्वरूप 20 मार्च 1997 को वे दुसरी बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनी | तत्पश्चात 1998 तथा 1999 के लोकसभा चुनावो में वे अकबरपुर सुरक्षित जिला अम्बेडकर नगर का प्रतिनिधित्व किया | वर्ष 2002 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में जहांगीरगंज एवं हरोड़ा विधानसभा क्षेत्रो से चुनाव जीता तथा भाजपा के सहयोग से बनने वाली सरकार में 3 मई 2002 को तीसरी बार मुख्यमंत्री बनी |

अप्रैल मई 2004 के लोकसभा चुनाव में वे अकबरपुर लोकसभा क्षेत्र से निवाचित घोषित की गयी परन्तु माढ़क 2004 में त्यागपत्र देकर 5 जुलाई 2004 से आगामी 6 वर्ष के लिए राज्यसभा की सदस्या चुनी गयी | 13 मई 2007 को चौथी बार वे उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनी जो कि एक रिकॉर्ड है |उन्होंने कई देशो का भ्रमण किया और “बहुजन समाज और उसकी राजनीती” नामक पुस्तक भी लिखी | बसपा के लोग उन्हें “बहन जी ” कहकर संबोधित करते है | उनकी छवि एक दबंग राजनेता की है | उन्हें दलित वर्ग का मसीहा माना जाता है और लोग उन्हें Iron Lady कहकर पुकारते है |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here