P. T. Usha Biography in Hindi | उडनपरी पी.टी.उषा की जीवनी

0
507
P. T. Usha Biography in Hindi
P. T. Usha Biography in Hindi

पी.टी.उषा (P. T. Usha) (पिल्व्व्लकांदी थेक्केपरबिल उषा) का जन्म 27 जून 1964 केरल के कोंझीकोड़े स्थान के पायोली गाँव में हुआ | उनके पिता का नाम श्री ई.पी.एम. पैठल था तथा माँ का नाम लक्ष्मी था | इनकी दो बहने तथा एक भाई है | पति श्रीनिवास तथा पुत्र उज्ज्वल है | ओ.एम.नाम्बियार ने पी.टी.उषा को नेशनल स्कूल गेम्स में दौड़ते हुए देखा तथा फिर उनके करियर को संवारा | उनके दौड़ने की शैली तथा प्रतिभा अद्भुत थी |

बचपन में बुरे स्वास्थ्य तथा गरीबी से झूझने के बावजूद उन्होंने ओ.एम.नाम्बियार तथा बालकृष्ण नैयर की प्रेरणा से अपने खिलाड़ी रूप में विकसित किया | यहाँ तक कि इस तेज धाविका को कभी “भारतीय ट्रेक की महारानी” कभी “पायोली एक्सप्रेस” कहा गया | देश-विदेश में अनेक स्वर्ण पदक जीतने के कारण उन्हें Golden Girl नाम भी मिला | एथीलेट के रूप में उनका करियर 1979 से शुरू हुआ जब नेशनल स्कूल गेम्स में उन्होंने भाग लिया |

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम बार उन्होंने 1980 में मोस्को ओलम्पिक्स में भाग लिया पर वे कुछ हासिल नही कर पायी | 1982 में नई दिल्ली एशियाड में 100 मीटर तथा 200 मीटर की दौड़ में दो रजत पदक जीते | 1983 में कुवैत में आयोजित एशिया ट्रेक एंड फील्ड चैंपियनशिप में एशिया का रिकॉर्ड तोडा तथा स्वर्णपदक प्राप्त किया | लोंस एंजेल्स में आयोजित ओलम्पिक में वह 400 मीटर की दौड़ के फाइनल में पहुचने वाली प्रथम महिला थी |

जकार्ता में छठी ए.एफ.सी, में उषा (P. T. Usha) ने 5 स्वर्णपदक जीते | सियोल में आयोजित 10वे एशियाई गेम्स में उषा को 4 स्वर् तथा 1 रजत पदक मिले | ट्रेक एंड फील्ड की सभी प्रतियोगिताओ में उषा ने सब पुराने रिकार्ड्स तोड़े | 1996 में अटलांटा ओलम्पिक में अंतिम बार भाग लिया | खेमो के प्रति अत्यधिक समपर्ण होने के कारण पी.टी.उषा ने 1991 में विवाह के बाद केवल 1992 के ओलम्पिक में भाग नही लिया अन्यथा ये सभी प्रतियोगिताओ में लगातार भाग लेती रही और स्वर्ण पदक दिलवाकर भारत के गौरव को बढाती रही |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here