Pratibha Patil Biography in Hindi | प्रतिभा पाटिल की जीवनी

0
968
Pratibha Patil Biography in Hindi | प्रतिभा पाटिल की जीवनी
Pratibha Patil Biography in Hindi | प्रतिभा पाटिल की जीवनी

श्रीमति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल (Pratibha Patil) का जन्म 19 दिसम्बर 1934 को महाराष्ट्र के नन्दगांव जिले में हुआ था | उन्होंने अपनी आरम्भिक शिक्षा आर.आर.स्कूल , जलगांव एवं स्नातकोत्तर की डिग्री राजनीति विज्ञान एवं अर्थशास्त्र विषयों में मूलजी जेठ कॉलेज से प्राप्त की | तत्पश्चात उन्होंने राजकीय कॉलेज , बम्बई से विधि स्नातक की डिग्री प्राप्त की | श्रीमति पाटिल (Pratibha Patil) कॉलेज जीवन में खेलकूद प्रतियोगिताओ में सक्रिय भागीदारी निभाती थी | स्नातकोत्तर एवं विधि स्नातक अध्ययन के दौरान भी उन्होंने अनेक सम्मानजनक पदक प्राप्त किये |

श्रीमती पाटिल (Pratibha Patil) ने अपना व्यावसायिक जीवन जलगांव कोर्ट से एक अधिवक्ता के रूप में प्रारम्भ किया | वकालत के पेशे में  उन्हें खूब सफलता एवं लोकप्रियता हासिल हुयी | इस दौरान वे समाजसेवा से भी जुडी रही और अनेक जनकल्याणकारी कार्यो को निष्पादित किया – विशेषकर महिलाओं की स्थिति ,समस्या और निदान से संबधित मामलो में उनकी विशेष रूचि रही | प्रतिभा जी का विवाह डा. देवीसिंह रामसिंह शेखावत के साथ हुआ | डा.शेखावत ने मुम्बई के हाथकिन इंस्टिट्यूट में रसायन विज्ञान एवं अनुशासन पर शोध किया है | अपनी शिक्षा और प्रतिष्टा के बल पर वे अमरावती शहर के प्रथम मेयर बने |

श्रीमति पाटिल (Pratibha Patil )ने अपना राजनितिक जीवन बहुत ही कम उम्र मात्र 27 वर्ष की उम्र में शुरू किया | सर्वप्रथम उन्होंने जलगांव विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा चुनाव में सफलता प्राप्त की | इसके बाद लगातार चार बार इदलाबाद क्षेत्र से विधानसभा के लिए चुनी गयी | तत्पश्चात सन 1985-90 तक राज्यसभा सदस्य के रूप में संसद में अपनी सेवा प्रदान की | 1991 में अमरावती संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें पराजय का मुख देखना पड़ा |

प्रतिभाजी (Pratibha Patil) ने अपना अधिकाँश राजनितिक जीवन महाराष्ट्र में ही महाराष्ट्र की जनता के बीच एवं महाराष्ट्र सरकार में अपनी सेवाए प्रदान करके बिताया | उन्होंने सन 1967 से 1972 तक महाराष्ट्र सरकार में राज्यमंत्री के रूप में लोक स्वास्थ्य विभाग , मध निषेध मंत्री ,पर्यटन मंत्री ,ससंदीय एवं आवास मंत्री के पद पर कार्य किया | सन 1972 में ही वे महाराष्ट्र सरकार में समाज कल्याण विभाग में कैबिनेट मंत्री बनाई गये | 1974-75 में समाज कल्याण और लोक स्वास्थ्य विभाग में कैबिनेट मंत्री रही | 1975-76 में म्ध्य निषेध , पुनर्वास ,सांस्कृतिक कार्य विभाग की कैबिनेट मंत्री बनी |

1977 में प्रतिभा पाटिल शिक्षा मंत्री , 1982-83 में आवास एवं शहरी विकास मंत्री एवं 1983-85 में असैनिक आपूर्ति एवं समाज कल्याण मंत्री बनी | विपक्ष के नेता के रूप में भी इन्होने जुलाई 1979 से फरवरी 1980 तक महाराष्ट्र  विधानसभा में उत्र्कुष्ट भूमिका निभाई | जब वे राज्यसभा में आयी तब राज्यसभा की उपाध्यक्ष बनी तत्पश्चात सन 1988 में इन्होने राज्यसभा के अध्यक्ष पद को सुशोभित किया | प्रतिभा पाटिल ने लोकहित हेतु लम्बे समय कार्य किया जो अभी भी जारी है | पाटिल एसोसिएट एवं अन्य संस्थानों के उत्थान में उन्होंने काफी सक्रिय भूमिका निभाई है |

सन 1985 में प्रतिभा जी बुल्गारिया की सभा में तथा 1988 में लन्दन के कमेटी ऑफ़ ऑफिसर्स कांफ्रेंस की प्रतिनिधि बनकर गये थी | इन्होने ऑस्ट्रेलिया में आयोजित स्टेट्स ऑफ़ वीमेन तथा सितम्बर में चीन में वर्ल्ड वीमेन कुपेरातिव के तत्वाधान में आयोजित सेमिनार में भाग लिया | श्रीमती पाटिल (Pratibha Patil) 25 जुलाई 2007 को भारत गणराय की बारहवी राष्ट्रपति बनी | राष्ट्रपति बनने से पहले वे राजस्थान की राज्यपाल थी | इन्हें भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति होने का गौरव प्राप्त हुआ है |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here