Sanjay Dutt Biography in Hindi | संजय दत्त की जीवनी

0
166
Sanjay Dutt Biography in Hindi
Sanjay Dutt Biography in Hindi

संजय दत्त (Sanjay Dutt) बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता है जिनका जन्म 29 जुलाई 1959 को बॉम्बे में हुआ था | संजय दत्त के पिता सुनील दत्त और माता नरगिस अपने जमाने के मशहूर फिल्म कलाकार थे | संजय दत्त (Sanjay Dutt) के दो बहने प्रिया दत्त और नम्रता दत्त है | बाल कलाकार के तौर पर संजय दत्त ने 1972 में अपने पिता के साथ रेशमा और शेरा फिल्म में काम किया था जिसमे वो कुछ समय के लिए कवाली गायक के रूप में नजर आते है | संजय दत्त ने तीन शादियाँ की | पहली शादी अभिनेत्री ऋचा शर्मा के साथ हुयी थी जिनकी मृत्यु 1996 में ब्रेन ट्यूमर से हो गयी थी | उन दोनों से 1988 में में एक बेटी का जन्म हुआ जिसका नाम त्रिशाला है जो अभी अपने नाना-नानी के साथ अमेरिका रहती है | दत्त की दुसरी शादी मॉडल रिहा पिल्लै के साथ 1998 में हुयी लेकिन 2008 में उनका तलाक हो गया | दत्त ने तीसरी शादी 2008 में मान्यता दत्त से की और 2010 में उनके दो जुड़वाँ बच्चे एक लड़का और एक लडकी हुयी |

संजय दत्त का फ़िल्मी करियर | Filmy Career of Sanjay Dutt

संजय दत्त (Sanjay Dutt) ने 1981 में रॉकी फिल्म के साथ फिल्मो में प्रवेश किया जो बॉक्स ऑफिस पर हिट रही | हालांकि दुर्भाग्य की बात यह थी कि उनकी पहली फिल्म रिलीस होने से पहले ही उनकी माँ नरगिस दत्त की मृत्यु हो गयी थी | इसके बाद दत्त ने 1982 की सबसे कमाऊ फिल्म विधाता में काम किया | 80 के दशक में उन्होंने कई सफल फिल्मो जैसे ईमानदार , इनाम दस हजार , जीते है शान से , मर्दों वाली बात , इलाका , हम भी इंसान है , कानून अपना अपना और ताकतवर में काम किया | 1986 में आयी फिल्म नाम संजय दत्त की सबसे पहली ब्लॉकबस्टर फिल्म थी जिसने उनके करियर को ऊँचाईयों तक पहुचा दिया था |

1980 के दशक के उन्होंने कई मल्टी-स्टार अभिनेताओ जैसे गोविंदा , मिथुन , धर्मेन्द्र , जैकी श्रोफ और सनी देओल के साथ काम किया था | 90 के दशक में भी उनकी फिल्मो की सफलता का दौर चलता रहा जिसमे तेजा ,खतरनाक , जहरीले , थानेदार , खून का कर्ज ,यलगार , गुमराह , साहिबा और आतिश जैसी फिल्मे थी | 1990 के दशक की फिल्म साजन के लिए उनको पहली वाल फिल्मफेर अवार्ड के लिए नामांकित किया गया था और खलनायक के लिए दुसरी बार नामांकित किया गया था लेकिन दुर्भाग्यवश दोनों बार जीत नही पाए थे |

1993 में उनकी गिरफ्तारी के बाद 1997 में उनकी पहली फिम दौड़ थी जो बॉक्स ऑफिस पर कमाल नही कर पायी | इसके बाद 1998 में आयी फिल्म दुश्मन भी बॉक्स ऑफिस पर कमाल नही कर पायी | 1999 का साल उनके लिए अच्छा रहा और उन्होंने फिर से फिल्मो पर पकड़ पायी | 1999 में उनकी पहली फिल्म कारतूस और उसके बाद दाग थी | वास्तव फिल्म के लिए पहली बार उन्होंने फिल्मफेर अवार्ड जीता था | 2000 में फिल्म मिशन कश्मीर के लिए उनकी काफी सराहना हुयी | 2000 के दशक में कई फिल्मो में उन्होंने लीड रोल निभाया जैसे जोड़ी न.1 , पिता और कांटे |

2003 में उनके जीवन की सबसे बड़ी फिल्म मुन्नाभाई एम.बी.बी.एस. आयी जिसके लिए उनको कई अवार्ड मिले और आज भी संजय दत्त मुन्नाभाई के नाम से मशहूर है | इसके बाद 2004 में मुसाफिर और प्लान , 2005 में परिणीता , शब्द , जिन्दा और दस फिल्म आयी | 2006 में मुन्नाभाई की सीक्वल फिल्म लगे रहो मुन्ना भाई आयी जिसके लिए उन्होंने कई अवार्ड जीते | इसके बाद 2007 में धमाल और शूटआउट , 2009 में आल द बेस्ट , 2011 में डबल धमाल , 2012 में सन ऑफ़ सरदार और 2012 में अग्निपथ और पीके आयी | 2017 में भूमि और 2018 में साहब बीबी और गेंगस्टर 3 में अभिनय किया | 29 जून 2018 को उनके जीवन पर आधारित फिल्म संजू रिलीस हुयी जिसमे रणवीर कपूर ने संजय दत्त का किरदार निभाया और खुद संजय दत्त भी स्पेशल appearance में नजर आये थे | इस फिल्म में ना केवल बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाया बल्कि रणवीर कपूर के अभिनय की भी सबने सराहना की |

संजय दत्त से जुड़े विवाद | Sanjay Dutt Controversies

1993 बॉम्बे बम धमाको में शामिल होने के आरोप में संजय दत्त (Sanjay Dutt) को गिरफ्तार किया गया था | संजय दत्त ने कबूल किया था कि उन्होंने बॉम्बे बम धमाको के दोषी अबू सालेम से हथियार खरीदे थे | संजय दत्त ने बताया था कि ये हथियार उन्होंने अपने परिवार की सुरक्षा के लिए खरीदे थे | इसकी वजह से उनके पिता सुनीत दत्त को राजनितिक नुकसान भी हुआ था जो उस समय राजनीति में थे | अप्रैल 1993 को उनको TADA एक्ट के तहत  गिरफ्तार किया गया | 5 मई को उनको सुप्रीम कोर्ट से बेल मिल गयी लेकिन 4 जुलाई को उनकी बेल रद्द हो गयी और उन्हें फिर गिरफ्तार किया गया और 16 अक्टूबर 1995 को उनको बेल मिली | यह मामला काफी लम्बा चला और मार्च 2013 को सुप्रीम कोर्ट ने संजय दत्त (Sanjay Dutt) को पांच साल की सजा सुनाई जिसमे से 18 महीने वो पहले ही जेल में बिता चुके थे |  16 मई 2013 को उनको फिर जेल जाना पड़ा और 25 मई 2016 को अपनी सजा पुरी करने के बाद जेल से बाहर निकले |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here