Sunil Gavaskar Biography in Hindi | सुनील गावस्कर की जीवनी

0
394
Sunil Gavaskar Biography in Hindi
Sunil Gavaskar Biography in Hindi

सुनील मनोहर गावस्कर (Sunil Gavaskar) का जन्म 10 जुलाई 1949 को बम्बई में हुआ था | उन्हें हम सन्नी के नाम से भी जानते है | वे नि:संदेह भारतीय टेस्ट क्रिकेट के महानतम ओपनिंग बल्लेबाजो में से है | 1971 में उन्होंने पहले ही टेस्ट श्रुंखला में वेस्ट इंडीज के खिलाफ 774 रन बनाकर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया | उन्होंने अपने करियर के दौरान वेस्ट इंडीज के खिलाफ प्रति पारी 70.20 रन का औसत दिया , कोई भी तत्कालीन बल्लेबाज इस रिकॉर्ड को पार नही कर पाया था | वे सेवानिवृति तक प्रमुख बल्लेबाज बने रहे |

1983 में उन्होंने खेल का पुराना एवं प्रतिष्ठित रिकॉर्ड तोड़ा वो था डोनाल्ड ब्रैडमेन का 29 टेस्ट शतक का रिकॉर्ड | गावस्कर (Sunil Gavaskar) का 34 टेस्ट शतक का रिकॉर्ड 2005 तक रहा फिर इसे सचिन ने तोड़ा | वे सबसे पहले खिलाड़ी रहे , जिन्होंने हर पारी में तीन बार शतक बनाये | वे 10,000 टेस्ट रन तक पहुचने वाले पहले बल्लेबाज थे फिर इस रिकॉर्ड को एलेन बॉर्डर ने तोडा | 70 एवं 80 के दशक में वे कई बार भारतीय टीम के कप्तान रहे लेकिन 1979-80 में पाकिस्तान पर 2-0 से जीत एवं ऑस्ट्रेलिया में वर्ल्ड चैंपियनशिप की जीत उल्लेखनीय है | इसी दौरान कपिल एक तेज गेंदबाज के रूप में उभरे |

गावस्कर (Sunil Gavaskar) अपने कौशल के बल पर टेस्ट मैच में 100 से अधिक कैच लेने वाले पहले भारतीय भी बने | 1985 में पाकिस्तान के विरूद्ध एकदिवसीय में उन्होंने चार कैच लिए थे | उनके द्वारा प्रयोग में लाई गयी तकनीके आज भी खिलाडियों द्वारा प्रयोग में लाई जाती है | उन्होंने भारतीय क्रिकेट को एक नई दिशा दी | वे चाहते थे कि भारतीय खिलाड़ी बिना किसी दबाव में आये , निष्पक्ष होकर खेले | वे 1980 के Wisdon Cricketer कहलाये |

भारत सरकार ने उन्हें उनकी उपलब्धियों के लिए पद्मभूषण से भी अलंकृत किया | दिसम्बर 94 में वे एक वर्ष के लिए मुम्बई के शेरिफ भी नियुक्त हुए | अब वे टी.वी. तथा प्रिंट मीडिया में कमेंटेटर के तौर पर विश्लेषण से जुड़े है | वे भारतीय क्रिकेट टीम के सलाहकार तथा ICC क्रिकेट कमेटी के चेयरमैन भी रह चुके है | उन्होंने क्रिकेट  पर चार पुस्तके लिखी है सनी डेज , आइडल्स , रन्स एंड रुइंस , वन दे वंडर्स | उनका पुत्र रोहन भी रणजी ट्राफी के लिए क्रिकेट खेलता है | हालांकि उसने भारत के लिए कुछ एकदिवसीय भी खेले है लेकिन उसे अभी बहुत परिश्रम करना होगा |

BiographyHindi.com के जरिये प्रसिद्ध लोगो की रोचक और प्रेरणादायक कहानियों को हम आप तक अपनी मातृभाषा हिंदी में पहुचाने का प्रयास कर रहे है | इस ब्लॉग के माध्यम से हम ना केवल भारत बल्कि विश्व के प्रेरणादायक व्यक्तियों की जीवनी से भी आपको रुबुरु करवा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here